CFL Full Form Kya hai | सीऍफ़एल बल्ब की जानकारी

दोस्तों अगर आप नहीं जानते की CFL Full Form Kya hai तो इस लेख में आपको Meaning & Full Form of CFL Bulb / सीऍफ़एल  बल्ब का पूरा नाम क्या है? की जानकारी  मिल सकती है.

CFL Full Form & Benefits of CFL Bulb

Meaning & CFL Full Form / सीऍफ़एल का पूरा नाम

CFL full form या पूरा नाम Compact Fluorescent Light है । अगर हिंदी में कहा जाए तो इसे कॉम्पेक्ट फ्लोरोसेंट के नाम से जाना जाता है। CFL एक प्रकार का बल्ब है जो बिजली बचाने में बेहद सहायक साबित हुआ है। जिस तरह के पुराने बल्ब पहले से इस्तेमाल किये जा रहे हैं यह उनसे बहुत ही अलग है। दअरसल पहले के बल्ब इस्तेमाल करने के साथ ही बहुत जल्दी गर्म हो जाते हैं और उनमें बिजली की खपत भी अधिक मात्रा में होती है। यही कारण है की CFL बल्ब बाकी के बल्बों से ज्यादा इस्तेमाल में लाया जाता है। साथ ही यह पुराने बल्ब की तुलना में ज्यादा रौशनी देते हैं। CFL बल्ब में एक Glass tube और 2 Electrodes होते हैं। What is CRT Full Form Hindi.

Types of CFL bulb / यह कितने प्रकार के होते हैं ?

CFL bulb 2 प्रकार के होते हैं।
1- Integrated – एकीकृत
2- Non Integrated – गैर एकीकृत

Invention of Bulb: बल्ब का अविष्कार थॉमस अल्वा एडिशन द्वारा किया गया था और यह विश्व का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण अविष्कार माना जाता है जो लोगों के जीवन में एक बड़ा बदलाव लेकर आया।

वैज्ञानिकों द्वारा किये गए अनेकों शोध में इस बात का पता लगाया गया है कि CFL और LED bulbs बाकियों की तुलना में बहुत बेहतर हैं। जब भी बल्ब का चुनाव किया जाता है तो सबसे पहले हम यही देखते हैं की कौन सा बल्ब बेहतर है या किसको इस्तेमाल करने से बिजली की खपत कम होती है, तो वहीं हम यह भी जानने के लिए उत्सुक होते हैं की कौन सा बल्ब ज्यादा चलेगा और हमें ज्यादा फायदा पहुँचायेगा। किसी भी बल्ब के इस्तेमाल से पहले यह जानना बेहद ज़रूरी है और हमें इस बात की पूरी जानकारी हो कि वह बल्ब हमारे लिए कितना फायदेमंद है और कितना नुकसानदायक है। Janiye LED ka Full Form & other info

तो आज हम आपको सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाले बल्ब LED bulb और CFL bulb के बीच के अंतर से रूबरू करवाएंगे।

Difference Between LED and CFL bulbs / सीऍफ़एल और LED bulb में क्या अंतर है?

1- CFL bulb के मुकाबले LED bulb के इस्तेमाल में कम बिजली की खपत होती है और साथ ही CFL bulb में हर साल लगभग 80 प्रतिशत ऊर्जा की लागत होती दर्ज की गयी है।

2- एक LED bulb की life आमतौर पर देखा जाए तो 50000 घण्टे या उससे भी ज्यादा होती है जबकि CFL बल्ब की केवल 8000 घण्टे होती है.

3- LED बल्ब अपनी खूबियों के कारण CFL बल्ब की तुलना में अधिक महँगा है और इसे सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाले बल्ब में गिना जाता है।

4- LED और CFL बल्ब में जो सबसे बड़ा अंतर होता है वह यह है कि CFL बल्ब बाकियों के मुकाबले ज्यादा किफायती और टिकाऊ माना जाता है और यह काफी लंबे समय तक चलता है।

5- LED bulb आकार में CFL bulb से छोटा होता है और देखने में भी आकर्षक होता है।

6- CFL बल्ब के ऊपर के हिस्से की बनावट शीशे की होती है, और अगर गलती से भी यह किसी से गिर कर टूट जाये तो इस 15 वाट कर CFL bulb का ग्लास बदलवाना पड़ता है।

तो वहीं अगर LED bulb की बात करें तो इसके सारे कंपोनेंट्स इसके अंदर ही मौजूद होते हैं और इसके बाहर के हिस्से में केवल एक गोल आकार में एक प्लास्टिक ही निकल होता है।

बता दें कि इसका बाहरी खोल बेहद ही मजबूत और टिकाऊ होता है जो आसानी से टूटता नहीं है। इस बल्ब की सबसे बेहतरीन बात यह है कि अगर इसके बाहर का हिस्सा टूट भी जाता है तब भी बल्ब अपना काम करना बंद नहीं करता है और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बाहरी हिस्सा केवल अंदर के हिस्से की सुरक्षा के लिए ही बनाया जाता है। Ye bhi Padhiye UPS ka Full Form & Use Kya hai.

CFL bulb के क्या Benefits हैं?

1- CFL बल्ब की पहली खासियत यह है कि वह बाकी के बल्ब के मुकाबले सस्ता और किफायती होता है। साथ ही यह केवल एक तिहाई बिजली के इस्तेमाल के साथ ही अपना काम बेहतर तरीके से करता है और कम ऊर्जा के इस्तेमाल के साथ ही यह बाकियों के मुक़ाबके 10 गुना ज्यादा चलता है।

2- CFL bulb का एक ऐसा अनोखा काम भी है जिसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं, दअरसल यह बल्ब हमारे आस पास के वातावरण से लगभग हाफ टन तक के कार्बन डाइऑक्साइड को कम करता है और हमारे वातावरण को शुद्ध बनाने में मदद करता है।

3- CFL bulb एक तरह का versatile bulb है जो किसी भी setting के साथ फिट हो जाता है। जहाँ आपको अपने settings के हिसाब से हर बार अलग बल्ब लेना पड़ता है , वही CFL bulb किसी भी सेटिंग में आसानी से फिक्स हो जाता है जैसे की टेबल लैंप आदि।

4- बाकी के बल्ब्स की रौशनी बहुत ज्यादा तेज होने के कारण उनका सीधा असर आखों की रौशनी पर भी पड़ता है जिसके कारण आंखे कमज़ोर होने का भी खतरा हो जाता है लेकिन CFL बल्ब आंखों को किसी भी तरह का नुकसान पहुँचाये बिना एक अच्छी लाइट देता है।

5- CFL बल्ब को आये हुए भी काफी समय हो गया है और इसने मार्किट में खुद के एक बेहतरीन बल्ब के रूप में स्थापित किया है इसलिए आज भी यह लोगो के बीच लोकप्रिय है और किसी भी बिजली की दुकान पर यह आसानी से उप्लब्ध हो जाती है।

CFL bulb के अहम parts क्या हैं?

CFL bulb के 2 अहम parts हैं,

1- इलेक्ट्रॉनिक बेलास्ट

2- गैस भारी टयूब

1- इलेक्ट्रॉनिक बेलास्ट- बेलास्ट की बात करें तो इसमें एक rectifier circuit board , एक filter capacitors और दो switching transistors होते हैं।

2- गैस भारी ट्यूब- गैस भारी ट्यूब के बारे में आपको बता दें कि यह एक तरह से फॉस्फोरस का मिक्सचर होता है जो कि बेलास्ट से मिलने वाली high frequency का इस्तेमाल कर के लाइट देता है।

Read about CFL in Wikipedia.

दोस्तों उम्मीद है कि इस CFL Full Form & Meaning in Hindi के इस आर्टिकल को पढ़ने में आपको आसानी हुई होगी और इस आर्टिकल के ज़रिए आपको CFL bulb से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां मिल गयी होंगी। हम आशा करते हैं की यह आर्टिकल आपको  आया होगा. इसे आप अपने दोस्तों & रिलेटिव्स के साथ सोशल मीडिया & whats-app पर जरूर शेयर करिए.

हमें कहा सुधार करना है और आपके इस लेख के बारे में क्या विचार है, कृपया कमेंट में लिखिए. यहाँ तक पढने के लिए धन्यवाद्.

Originally posted 2018-11-13 12:38:09.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code